Tuesday, September 7, 2021

कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ को राष्ट्रीय पुरस्कार

2018 में किए गए उत्कृष्ट कार्य के लिए नई दिल्ली में नवाजा

उत्कृष्ट कृषि विज्ञान केंद्र को राष्ट्रीय कृषि विज्ञान परिसर नई दिल्ली के सभागार में धानुका इनोवेटिव एग्रीकल्चर अवॉर्ड-2018 का राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया गया है। यह पुरस्कार कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ के वरिष्ठ वैज्ञानिक तथा प्रमुख प्रोफेसर आईएस तोमर को भारत सरकार के केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री डॉ. जीएस शेखावत के हाथों 2.50 लाख नकद, शॉल तथा प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया।

कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ को पांच वर्षो में आदिवासी बहुल जिले झाबुआ में किसानों के लिए उनके आजीविका के स्थायित्व तथा आर्थिक विकास के लिए कड़कनाथ मुर्गीपालन के साथ कृषि में विविधीकरण, अंतर्वर्ती फसल पद्धति, उन्नात व हाई-टेक सब्जी उत्पादन तकनीक के प्रचार-प्रसार व उन्नात तकनीकों के हस्तांतरण पर किए कार्य के आधार पर यह राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त हुआ है। इस अवसर पर विशेष रूप से मंच पर पूर्व अध्यक्ष नेशनल एकेडमी ऑफ एग्रीकल्चर साइंस व पद्मभूषण प्रोफेसर आरबी सिंह, धानुका ग्रुप के अध्यक्ष आरजी अग्रवाल तथा राज्यसभा सांसद डॉ. आलोक वाजपेयी के साथ ही देश के कृषि वैज्ञानिक, उच्च अधिकारी तथा विभिन्ना प्रदेशों आए 1500 कृषक उपस्थित थे। इस अवसर पर डॉ. तोमर ने बताया कि यह सम्मान झाबुआ जिले के कृषकों के अथक परिश्रम के साथ कृषि विज्ञान केंद्र के सभी साथी वैज्ञानिकों व कृषि से संबंधित विभिन्ना विभागों के सहयोग व टीम भावना का परिणाम है। कृषि विज्ञान केंद्र आलीराजपुर के वरिष्ठ वैज्ञानिक तथा प्रमुख डॉ. आरके यादव का इस पुरस्कार के लिए आवेदन व दस्तावेज तैयार करने में विशेष योगदान रहा। पुरस्कार मिलने पर ग्वालियर के कुलपति प्रो. एसके राव, अधिष्ठाता कृषि संकाय डॉ. मृदुला बिल्लौरे, निदेशक विस्तार सेवाएं डॉ. एसएन उपाध्याय, निदेशक अनुसंधान सेवाएं डॉ. एमपी जैन, कुलसचिव डीएल कोरी, अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय इंदौर डॉ. अशोक कृष्णा आदि ने हर्ष व्यक्त किया। 


Latest
Next Post